50 बाइबिल कहानियां - भाग 2

With mentor • 51 lessons • 2 students


प्रस्तावना

मुझे डॉ. एनी अब्राहम और उनकी टीम द्वारा शिष्य बनानेवालों के लिए ख़ास तौर से बनायी गयी किताब ‘50 बाइबिल कहानियाँ – भाग -2’ पढ़कर बेहद ख़ुशी हुई । आम लोगों तक, (चाहे वे पढ़े लिखें हो या अनपढ़) परमेश्वर का सन्देश पहुंचाने के लिए कहानियाँ सबसे सरल और प्रभावशाली माध्यम है। यीशु ने उसके अनुयायियों को परमेश्वर के वचन की सच्चाइयों को समझाने के लिए कहानियों का इस्तेमाल किया। नए नियम में यीशु की शिक्षाओं का लगभग एक तिहाई, कहानियों और दृष्टान्तों के रूप में था। यीशु द्वारा इन कहानियों का उपयोग करने का उद्देश्य परमेश्वर के राज्य की शिक्षाओं को अत्यंत सरल बनाना था ताकि लोग संदेश को समझ सकें। बाइबल में सैकड़ों कहानियां है जो एक बड़ी कहानी का हिस्सा हैं, - ‘मानव जाति के लिए परमेश्वर के छुटकारा की योजना’। जब भी हम कोई कहानी पढ़ते हैं, तो हमें चर्चा करने और सोचने की जरूरत होती है कि यह कहानी बाइबल की बड़ी तसवीर से कैसे जुड़ी है । हम आशा और प्रार्थना करते हैं कि इस पुस्तक का उपयोग हज़ारों लोगों को परमेश्वर के वचन को सिखाने में व्यापक रूप से इस्तेमाल की जायेगी, और हमें आने वाले दिनों में कई लोगों को परमेश्वर के राज्य में आते हुए देख कर खुशी मिलेगी!

रेव.. सैम सी सामुएल,

अध्यक्ष, ऑपरेशन अगापे.


परिचय

इस धरती पर रहनेवाला बड़ा कथाकार यीशु मसीह था । उसने कहानियों के माध्यम से परमेश्वर के राज्य के बारे में महान शिक्षाएं दी । उनको हमेशा एक बड़ी भीड़ घेरे रहती थी और उन्हें उसे सुनना बहुत पसंद था । अंत में, उनकी जीवन कथा हर समय की सबसे बड़ी कहानी बन गई, जो विश्व स्तर पर लाखों का जीवन बदल रही है । 'बाइबल कहानियां' काल्पनिक नहीं हैं। वे वास्तविक घटनाएं हैं। जब हम इन घटनाओं को कहानियों के रूप में सुनते हैं, तो उन्हें आसानी से समझ पाते हैं और हमारे दिमाग में बनी रहते है। हम कहानियों के माध्यम से महान मूल्यों को सिखा सकते हैं । एक बड़ा उदाहरण हमें तब देखने को मिलता है कि जब नबी नातान ने एक छोटी सी कहानी के माध्यम से राजा दाऊद को उसकी गलती का एहसास दिलाया. हर उम्र के लोग कहानियां सुनना पसंद करते हैं। केवल मौखिक शिक्षार्थी ही नहीं, बल्कि पढ़े लिखे लोगों को भी कहानियाँ सुनना पसंद है। यह किताब एक टीम के द्वारा रची गयी है। पौलुस कहते हैं, "मैं ने लगाया, अपुल्लोस ने पानी दिया, लेकिन परमेश्वर ने वृद्धि दी" (1 कुरिन्थियों 3:6) । किसी की ज़हन में बात आई, किसी ने तकनीकी सहायता दी, किसी ने आर्थिक रीति से सहायता की, किसी ने प्रार्थना की और अंत में यह किताब हजारों लोगों के द्वारा इस्तेमाल की जाएगी । हम आशा और प्रार्थना करते हैं कि यह किताब बहुतों के आशीष के लिए, सभी के हाथों में (विशेष रूप से जमीनी स्तर के अगुओं के हाथों में) एक शक्तिशाली उपकरण साबित होगा.

यीशु मसीह की शाही सेवा में

डॉ. एनी अब्राहम,

अगापे परिवार के लिए



इस पुस्तक का उपयोग कैसे करे?

यह पुस्तक मुख्य रूप से जमीनी स्तर के अगुओं के लिए लिखी गई है, जो नियमित रीति से कहानियों के द्वारा दूसरों को बाइबिल पढ़ाते है.


इस पुस्तक में, कहानियों को संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत किया गया है. बाइबिल में लिखी गयी पूरी कहानी को पढ़ें, ताकि बेहतर तरीके से समझ पायें.


किसी समूह में इन कहानियों को सुनाने के पहले, कृपया अपने ही लोगों के बीच में सुनाने का अभ्यास करें और अपने जीवन में इसे लागू भी करें.


हर कहानी को सही ढंग से समझने के लिए, SWORD METHOD एक अच्छा तरीका है ।

SWORD method से, किसी कहानी को पढने के बाद, नीचे दिए गए सवालों से उस कहानी का विश्लेषण करें!

1. यह कहानी, परमेश्वर के बारे में क्या बताती है?
2. यह कहानी मनुष्य के बारे में क्या बताती है?
3. क्या कोई पाप है जिससे मुझे बचना है?
4. क्या कोई आज्ञा है जिसे मुझे मानना है?
5. क्या कोई वादा है जिसे मुझे अपनाना है?
6. क्या इस कहानी में कोई उदाहरण या चेतावनी है?

अंत में अपने निजी जीवन में लागू करने का भी का प्रयास करें।

Start course